देश राजनीति राज्य

लोकसभा चुनाव:अखिलेश यादव, मायावती का गठबंधन, 38-38 सीटों पर लड़ेंगी सपा-बसपा

लोकसभा चुनाव के लिए मायावती की बहुजन समाज पार्टी और अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश में सीटों का ऐलान कर दिया है. यूपी में 80 लोकसभा सीट हैं. बसपा-सपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. वहीं अमेठी और रायबरेली सीट कांग्रेस के लिए छोड़ी गई हैं. यहां दोनों पार्टियां अपने उम्मीदवार नहीं उतारेगी. इसका ऐलान शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में खुद मायावती ने किया. मायावती ने कहा, कांग्रेस से गठबंधन किए बिना ही अमेठी-रायबरेली की सीटें उनके लिए छोड़ी गई हैं. ताकि बीजेपी के लोग कांग्रेस अध्यक्ष को यहीं उलझा कर न रख सकें. अन्य सीटें बाकी पार्टियों के लिए छोड़ी गई हैं. लेकिन यह तय है कि इन सीटों पर अजीत सिंह की आरएलडी चुनाव लड़ेगी.

सपा-बसपा गठबंधन में कांग्रेस को शामिल क्यों नहीं किया गया, मायावती ने इस पर भी बात की. उन्होंने कहा कि आजादी के बाद देश के अधिकतर हिस्से पर कांग्रेस का राज रहा है. भाजपा या कांग्रेस, जिसके हाथ में सत्ता आए दोनों एक ही हैं. उन्होंने कहा कि जिस तरह कैराना, फूलपुर और गोरखपुर उपचुनावों में हमने बीजेपी को हराया, उसी तरह 2019 लोकसभा चुनाव में भी मात देंगे. राम मंदिर मामले को लेकर बीजेपी पर मायावती जमकर गरजीं.

उन्होंने कहा कि सत्ताधारी पार्टी ने देश की जनता के साथ खिलवाड़ किया है. मायावती ने कहा, गठबंधन को भाजपा कमजोर करना चाहती है, लेकिन बसपा पूरी तरह अखिलेश यादव के साथ है और बसपा कांग्रेस जैसी किसी पार्टी से देश में गठबंधन नहीं करेगी.वहीं अखिलेश यादव ने भी बीजेपी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि बीजेपी की नफरत फैलाने वाली राजनीति को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए ही बसपा से सपा ने गठबंधन किया है. उन्होंने कहा, यूपी में जातिवाद तेजी से फैल रहा है और बीजेपी ने भगवानों को भी जातियों में बांट दिया है. इसके अलावा अखिलेश यादव ने मायावती की प्रधानमंत्री पद के लिए उम्मीदवारी का भी समर्थन किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *