विदेश

रूस ने मिसाइल संधि से खुद को अलग किया, कहा-वाशिंगटन बातचीत के लिए परिपक्व नहीं

शीत युद्ध के दौरान महत्वपूर्ण मिसाइल संधि से अमरीका पीछे हट चुका है। उसने शनिवार को रूस से अलग होने की घोषणा कर डाली। इसके बाद रूस भी इस संधि से अलग हो गया। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि उनका देश भी इस प्रमुख संधि से खुद को अलग कर रहा है। उन्होंने 1987 में हुई इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्स ट्रीटी यानी आईएनएफ संधि पर कहा कि उनके अमरीकी साझेदारों ने समझौते में अपनी भागीदारी को स्थगित करने की घोषणा की है।

बातचीत की पहल नहीं करेगा

पुतिन ने विदेश मंत्री सर्गेई लवरोव और रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु के साथ बैठक के दौरान कहा कि रूस अब परमाणु निस्त्रीकरण पर अमरीका के साथ बातचीत की पहल नहीं करेगा। राष्ट्रपति ने कहा कि वह तब तक प्रतीक्षा करेंगे जब तक उनका साझेदार इस विषय पर उनके साथ सार्थक वार्ता करने के लिए पर्याप्त परिपक्व नहीं हो जाता।

छह महीने में अलग होने की प्रक्रिया शुरू करेगा

अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कहा था कि उनका देश आईएनएफ संधि के तहत अपनी प्रतिबद्धताओं को स्थगित कर रहा है। वह छह महीने में इससे अलग होने की प्रक्रिया शुरू कर रहा है। अमरीका ने कहा कि रूस की मध्यम दूरी की मिसाइल प्रणाली ने आईएनएफ संधि का उल्लंघन किया है। इसी के उल्ट रूस कहता आ रहा है कि उसने संधि का उल्लंघन नहीं करता है। बीते माह उसने विवादित हथियार प्रणाली पर जानकारी देने के लिए पत्रकारों और विदेशी सैन्य अधिकारियों को आमंत्रित किया था। इससे पहले पुतिन ने धमकी दी थी कि अगर आईएनएफ को रद्द किया जाता है तो रूस इस संधि के तहत प्रतिबंधित परमाणु मिसाइल को विकसित करेगा।

चीन लगातार ताकतवर हो रहा

गौरतलब है कि तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और सोवियत संघ के नेता मिखाइल गोर्बाच्योफ ने शीत युद्ध के दौरान इस संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे। यह संधि 500 से 5,500 किलोमीटर दूरी तक मारक क्षमता वाली जमीन से दागी जाने वाली मिसाइलों पर प्रतिबंध लगाती है। इस संधि से पश्चिमी देशों पर सोवियत संघ के परमाणु हमले के खतरे को खत्म कर दिया था। मगर यह संधि चीन जैसी अन्य बड़ी सैन्य शक्तियों पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाती है। ऐसे में चीन लगातार ताकतवर होता जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *