एजुकेशन

तीस हजार बीएड डिग्रीधारी नहीं दे सकेंगे यूपी टीईटी-2018 परीक्षा

18 नवंबर को होने जा रही शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) से तकरीबन 30 हजार बीएड डिग्रीधारी बाहर हो गए हैं। 2013-14 सत्र के इन बीएड डिग्रीधारियों ने ऑनलाइन आवेदन तो कर दिया है लेकिन अंकपत्र नहीं होने के कारण परीक्षा में सम्मिलित नहीं हो सकेंगे।.

मामला बीएड सत्र 2013-14 से जुड़ा है। सुप्रीम कोर्ट ने 2013 में बीएड कॉलेजों में सत्र नियमित करने के उद्देश्य से प्रवेश की अंतिम तिथि 16 जुलाई तय की थी लेकिन सीटें खाली रहने पर तत्कालीन सरकार ने प्रवेश की आखिरी तारीख 16 अक्तूबर तक बढ़ा दी। इस पर बीएड कॉलेजों ने प्रवेश ले लिए। अकेले चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ से जुड़े कॉलेजों में ऐसे 15 हजार छात्र हैं। पूरे प्रदेश में यह संख्या 30 हजार बताई जा रही है।

बाद में किसी ने 16 जुलाई 2013 के बाद हुए प्रवेश अवैध घोषित करने की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका कर दी। कोर्ट ने परीक्षा कराते हुए रिजल्ट रोकने के आदेश दिए। तब से यह मामला कोर्ट के विचाराधीन है। इन बीएड डिग्रीधारियों की लिखित एवं प्रायोगिक परीक्षा तो हो चुकी है लेकिन रिजल्ट नहीं मिला है। लिहाजा इन अभ्यर्थियों ने अपीयरिंग करके ऑनलाइन आवेदन कर दिया लेकिन रिजल्ट की मूल प्रति या इंटरनेट से प्राप्त कॉपी नहीं होने के कारण परीक्षा नहीं दे सकेंगे। गौरतलब है कि राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने 29 जून 2018 को बीएड डिग्रीधारियों को प्राथमिक स्तर में सहायक अध्यापक पद पर नियुक्त करने के लिए अधिसूचना जारी की थी। इसके बाद बड़ी संख्या में बीएड डिग्रीधारियों ने प्राथमिक स्तर की टीईटी के लिए आवेदन किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *